Thursday, April 18, 2024
No menu items!
spot_img
Homeउत्तर भारत राज्यट्रेन टिकट में 75% प्रतिशत तक की छूट-रेलवे मंत्री

ट्रेन टिकट में 75% प्रतिशत तक की छूट-रेलवे मंत्री

भारतीय रेलवे विकलांग लोगों, मानसिक रूप से विकलांग और पूरी तरह से अंधे यात्रियों को ट्रेन टिकट पर छूट देता है जो बिना किसी मदद के यात्रा नहीं कर सकते। ऐसे यात्रियों को जनरल, स्लीपर और थर्ड एसी में 75 फीसदी तक की छूट मिलती है। वहीं सेकेंड और फर्स्ट एसी के लिए इसमें 50 फीसदी तक की छूट दी जा रही है। भारतीय रेलवे के नियमों के मुताबिक 1 साल से लेकर 4 साल तक के बच्चों का कोई टिकट नहीं लगता है।

यह अच्छी खबर है कि भारतीय रेलवे विकलांग और मानसिक रूप से विकलांग यात्रियों को ट्रेन टिकट पर छूट प्रदान कर रही है। वे जनरल, स्लीपर, और थर्ड एसी में 75% तक और सेकेंड और फर्स्ट एसी में 50% तक की छूट पा सकते हैं। यह उनकी यात्रा को सुविधाजनक और सस्ते तरीके से करने में मदद करेगा।

खबर है कि रेलवे ने राहत के तौर पर ट्रेन टिकट दरों में छूट प्रदान करने का निर्णय लिया है। राजधानी और शताब्दी ट्रेनों में यात्रा करने वाले और उनके साथी यात्रियों को 25% की छूट मिलती है। इसके अलावा, ट्रेन से यात्रा करने वाले रोगियों जैसे कि टीबी, किडनी, कैंसर, और गैर-संचारी रोगियों को भी छूट प्रदान की जाती है। इसमें हृदय रोग से पीड़ित मरीजों को भी शामिल किया गया है। इसके अतिरिक्त, विभिन्न समाज सेवा क्षेत्रों से लोगों को भी विशेष नियमों के तहत छूट दी जाती है। यह निर्णय यात्रियों को यात्रा करने में सहायक होगा और उन्हें आराम से और सस्ते दामों पर यात्रा करने का अवसर प्रदान करेगा।

दिव्यांग यात्रियों को स्लीपर क्लास, एसी-3 से लेकर सामान्य क्लास तक में जो छूट मिलती है, इस छूट का लाभ उठाने के लिए टिकट खरीदते समय, दिव्यांग प्रमाणपत्र दिखाना या आवश्यक जानकारी प्रदान करना आवश्यक होता है। इसके अलावा, भारतीय रेलवे द्वारा दिव्यांग यात्रीयों को व्हील चेयर की भी सुविधा प्रदान की जाती है।वर्तमान नियम के अनुसार यदि कोई व्यक्ति एक आँख से दृष्टिहीन है और उसकी दूसरी आँख ठीक है तो उसे 30% विकलांग माना जाएगा। अन्भाय के लिए रत में ऐसे व्यक्ति को विकलांग माना गया है जो चिकित्सा अधिकारी द्वारा प्रमाणित 40 प्रतिशत से कम विकलांगता का शिकार न हो।

वरिष्ठ नागरिकों के मामले में टिकट खरीदते समय आयु का कोई प्रमाण प्रस्तुत करना आवश्यक नहीं है। रियायती टिकट मांग करने पर जारी के जाते हैं, जिनके लिए आरक्षण फार्म में विकल्प दिया गया है।न्यूनतम 60 वर्ष के पुरुष वरिष्ठ नागरिक और न्यूनतम 58 वर्षीय महिला वरिष्ठ नागरिक।

भारतीय रेलवे के नियमों के मुताबिक 1 साल से लेकर 4 साल तक के बच्चों का कोई टिकट नहीं लगता है।

यात्रियों के लिए क्या हैं नए नियम? ट्रेन में किसी भी यात्री को मोबाइल पर ऊंची आवाज में बात करने की छूट नहीं होगी। ट्रेन में सफर के वक्त बिना इयरफोन तेज आवाज में गाना नहीं सुना जा सकता। पैसेंजर्स को रात 10 बजे के बाद लाइट जलाने की छूट नहीं होगी। ट्रेन में सिगरेट और शराब जैसी नशे वाली चीजों का सेवन नहीं किया जा सकता।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments