News Express24

site logo
Breaking News

घर खरीदने वालों के लिए आम बजट लेकर आया सुनहरा मौका

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

घर खरीदने की तैयारी कर रहे लोगों के लिए आम बजट एक सुनहरा मौका ले कर आया है। दरअसल, यह अवसर होम लोन के ब्याज पर आयकर छूट की सीमा 2 लाख से बढ़ाकर 3.5 लाख रुपये करने से बना है। इस फैसले से 45 लाख रुपये कीमत तक के घर खरीदने पर 15 साल की लोन अवधि में 7 लाख रुपये की बचत होगी। हालांकि, इस मौके का फायदा मार्च 2020 तक ही उठाया जा सकता है। प्रॉपर्टी विशेषज्ञों का कहना है कि यह घर खरीदने या निवेश करने का एक बहुत ही बेहतरीन मौका है। ऐसा इसलिए की होम लोन पर ब्याज दर कम हुई है। साथ ही अभी प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के तहत 2.67 लाख रुपये की ब्याज सब्सिडी मिल रही है। वहीं, बीते कई सालों से प्रॉपर्टी की कीमत स्थिर है।

 

घर खरीदार इन सभी का फायदा उठाकर कम बजट में अच्छी प्रॉपर्टी खरीद सकते हैं। घर की खरीदारी पर बड़ी बचत का मौका पर पेश है हिन्दुस्तान टीम की रिपोर्ट।

बजट के बाद इस तरह बचत होगी
उदाहरण से इस तरह समझें-रमेश एक आईटी पेशेवर हैं। रमेश की सालाना आय 30 फीसदी टैक्स स्लैब में है। वह 4 फीसदी उपकर भी चुकाता है। अगर रमेश 45 लाख रुपये कीमत का कोई घर या फ्लैट खरीदने के लिए एसबीआई से 40 लाख रुपये का होम लोन 8.60% सालाना ब्याज पर लेता है तो बजट से पहले तक उसे 2 लाख रुपये पर 30 फीसदी की दर से 60 हजार रुपये की कर छूट मिलती। लेकिन बजट के बाद 3.5 लाख रुपये पर यह छूट मिलेगी। इस तरह रमेश को करीब 1.9 लाख रुपये की बचत होगी। इस तरह 15 साल में रमेश को करीब 7 लाख रुपये की बचत होगी। वहीं, अगर वह 20 साल के लिए होम लोन लेगा तो यह बचत और बड़ी होगी।

शुरुआती सालों में मिलेगा ज्यादा फायदा
होम लेने के शुरुआती सालों में सबसे ज्यादा पैसा ब्याज के तौर पर देना पड़ता है। इसमें मूल धन काफी कम होता है। वहीं, करीब दस साल के बाद ब्याज की रकम कम हो जाती है। अगर कोई व्यक्ति 45 लाख रुपये कीमत का घर खरीदने के लिए बैंक से 40 लाख रुपये का लोन लेता है दस साल तक उसे 3 लाख रुपये सालाना ब्याज के तौर पर देने होते हैं। यानी दस साल तक उसे इससे अच्छी बचत होगी। इसके बाद ब्याज की रकम होने से बचत में कमी आएगी।

कर्ज सस्ता और सब्सिडी लाभ भी
प्रॉपर्टी विशेषज्ञ पद्रीम मिश्रा ने बताया कि सरकार का लक्ष्य 2022 तक देश में सभी परिवारों को घर देना है। इसके लिए सरकार किफायती घरों की मांग को बढ़ावा देना चाहती है। इसके जरिए रियल एस्टेट सेक्टर को प्रोत्साहित करने की मंशा है क्योंकि काफी समय यह सेक्टर सुस्ती से गुजर रहा है। इसलिए सरकार घर खरीदारों को प्रोस्ताहन देने के लिए एक साथ कई कदम उठाए हैं। इसमें होम लोन पर सस्ती ब्याज की दर और आवास योजना (पीएमएवाई) के तहत 2.67 लाख रुपये तक की ब्याज सब्सिडी भी मुहैया करा रही है। 31 मार्च, 2022 तक पीएमएवाई का लाभ लिया जा सकता है।

घर खरीदने या निवेश का बेहतरीन मौका
अंतरिक्ष इंडिया ग्रुप के सीमएडी राकेश यादव की माने तो निवेशकों या घर खरीदारों के लिए यह सबसे बेहतरीन वक्त है। वह इस मौके का फायदा उठाकर कम कीमत में अच्छी प्रॉपर्टी खरीद सकते हैं। ऐसा इसलिए की पिछले काफी समय से प्रॉपर्टी की कीमत नहीं बढ़ी है। प्रॉपर्टी बाजार में निर्माणाधीन या बन कर तैयार (रेडी टू मूव) फ्लैट की कोई कमी नहीं है। देश के सभी प्रमुख शहरों में प्रॉपर्टी उपलब्ध है। वहीं होम लोन पर ब्याज छूट की सीमा बढ़ने के साथ सस्ते होम लोन और ब्याज सब्सिडी का लाभ भी मिल रहा है। ये सभी कारक पहली दफा घर खरीदने या निवेशक करने अच्छी खासी बचत कराएंगे। निवेशक इस समय प्रॉपर्टी में निवेश कर 10 से 12 फीसदी का सालाना रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं।

प्रॉपर्टी बाजार पर असर
जेएलएल इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और कंट्री हेड रमेश नायर के अनुसार, बजट में होम लोन पर ब्याज छूट बढ़ाने का प्रवधान किफायती और मिड-हाउसिंग क्षेत्रों में खरीदारों की मदद करने के उद्देश्य से किया गया है।
इन पांच बातों का रखें ख्याल

1. कीमत की गणना करें :प्रॉपर्टी खरीदने से पहले उसकी कीमत की गणना करें। बैंक प्रॉपर्टी की कीमत का 80 से 90 फीसदी रकम लोन में देते हैं। शेष डाउन पेमेंट रकम का इंतजाम कैसे करेंगे इसकी गणना पहले से कर लें। इसके साथ ही बचट भी तय कर लें। इससे प्रॉपर्टी सर्च करने में आसानी होगी। आपको पहले से पता होगा कि आपको इसी कीमत के अंदर प्रॉपर्टी खरीदनी है।

2. लोकेशन का महत्व :फ्लैट खरीदने में लोकेशन काफी महत्वपूर्ण है, क्योंकि पब्लिक/प्राइवेट ट्रांसपोर्ट, स्कूल, शॉपिंग मॉल, रेलवे स्टेशन आदि घर से ज्यादा दूर नहीं होने चाहिए। ट्रांसपोर्ट की सुविधा जितनी लचर होगी, आपके मासिक खर्च में आवश्यक वस्तुओं की खरीददारी और ऑफिस आने-जाने का खर्च भी बढ़ेगा।

3. कागजी दस्तावेज देंखे: किसी भी प्रोजेक्ट में निवेश से पहले उससे जुड़े सभी कागजी दस्तावेज की जांच करें। आपको ये भी जानना होगा कि जहां आप घर खरीदने जा रहे हैं वहां के लिए संबंधित अथॉरिटी ने सारी मंजूरी दे दी है या नहीं? इसके अलावा ये भी देखना है कि बिल्डर के पास प्रोजेक्ट के लिए सभी कागज जैसे टाइटल डीड, प्रोपर्टी टैक्स और फायर अप्रूवल हैं या नहीं?

4. जल्दबाजी में फैसला से नुकसान : घर का सौदा कभी भी जल्दबाजी में न करें। अगर कोई फ्लैट पसंद भी आता है तो उसके बारे में ऑनलाइन और ऑफलाइन पूरी जानकारी इकट्ठा करें। इसके बाद संबंधित अथॉरिटी से जानकारी जुटाएं। अगर खुद से समझ में नहीं आए तो किसी सलाहकार से मदद लें।

5. मोलतोल करने में न हिचके : प्रॉपर्टी बाजार काफी लंबे समय से सुस्ती की चपेट में है। डेवलपर्स के पास नकदी संकट है। इस मौके का फायदा उठाकर आप कम कीमत में प्रॉपर्टी का सौदा कर सकते हैं। हालांकि, इसके लिए आपको मोलतोल करना होगा। आप ब्रोकर से नहीं बल्कि सीधे डेवलपर से कीमत कम करने की बात करें। बहुत संभव है कि आपको अच्छी प्रॉपर्टी कम कीमत में मिल जाए।

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

यह भी पढ़े ..

ट्रेंडिंग न्यूज़ ..

Add New Playlist